The Trial Review: काजोल की 8 घंटे की ‘द ट्रायल’ वेब सीरीज देखने से पहले जान ले कैसी है वेब सीरीज

The Trial Review: दोस्तों OTT पर एक और कोर्ट रूम ड्रामा वाली वेब सीरीज आ गयी है। आपको बता दे की यह वेब सीरीज एक हॉलीवुड वेब सीरीज का रीमेक है। इस वेब सीरीज को देखने से पहले आपको 8 घंटे का समय निकलना पड़ेगा। वो 8 घंटे देने से पहले जान लो कैसी है ‘ द ट्रायल ‘ वेब सीरीज ?

अक्सर ऐसा होता है की हम किसी पर आँख बंद करके विश्वास करते है लकिन वो हमारा विश्वास तोड़ देता है। लकिन हम उसे अपनी लाइफ में एक और मौका दे देते है। लकिन वो उसी मोके का फायदा उठाकर हमारी पीठ में चुरा घोप देता है। बस काजोल की वेब सीरीज ‘द ट्रायल’ भी ऐसी हुई है, जिसमे प्यार, धोखा, और खून ये आपको देखने को मिलेगा। क्या है कहानी आइये बताते है आपको।

यह भी पढ़े: Elvish Yadav: यूटूबर अलवीश यादव की बिग बॉस OTT 2 में हुई वाइल्ड कार्ड एंट्री, देखे कौन है ये यूटूबर?

‘The Trial’ की कहानी

कहानी की शुरुआत होती है नोयोनिया सेनगुप्ता ( काजोल ) के पति और जज राजीव सेनगुप्ता ( जीशु सेनगुप्ता ) पर घुस के तोर पर सेक्स करने का आरोप है। उसकी साडी प्रॉपर्टी जब्त हो जाती है। ऐसे में नयोनिका सेनगुप्ता और उसकी दोनों बेटियां- अनन्य और अनायरा सड़क पर आ जाती है। ऐसे में नयोनिका एक घर तलाश करती है जिसमे वो किराये पर रहती है। लकिन उसका गुजरा नहीं चल पता। वो अपने बच्चो की फीस तक नहीं भर पा रही थी। ऐसे में नयोनिका वकील की कुर्सी पर बैठने का फैसला करती है। पति से धोखा खाने के बाद नयोनिका अपने दोस्त की फार्म में बतौर जूनियर लॉयर काम करना सुरु करती है। इस दौरान नयोनिका को लोगो के ताने सुनने पड़ते है। कहानी में ट्विस्ट तब आता जब नयोनिका के पति का वकील बिक जाता है और वो उसका केस लड़ने से माना कर देता है। ऐसे में नयोनिका क्या कदम उठाती है? और वो अपने पति को कैसे बचती है। ये सब जानने के लिए आपको सीरीज देखनी पड़ेगी। सीरीज में 8 एपिसोड है जिसके लिए आपको कम से कम 7 से 8 घंटे का वक़्त निकलना पड़ेगा। सीरीज में कुछ अच्छी और बुरी बाते है। 

यह भी पढ़े: New OTT Release This Week: इस हफ्ते OTT पर Adhura, Tarla, Blind, IB 71 हुई रिलीज़, देखे लिस्ट कौन सी फिल्म है बेहतर

The Trial Review ( जाने कैसी है सीरीज )

The Trial Review: सीरीज को देखने से पहले जान ले उसके बारे में की क्या है ख़ास और क्या है बकवास। वेब सीरीज ‘द ट्रायल’ का कांसेप्ट तो अच्छा है। लकिन स्टोरी में कुछ ख़ास दम नहीं है। वैसे भी ये एक हॉलीवुड सीरीज अमेरिकन ड्रामा ‘ द गुड वाइफ’ का हिंदी रीमेक है। अगर एक्टिंग की बात करे तो काजोल ने अपना किरदार अच्छे से निभाया है। लकिन कहानी कमजोर होने की वजह से काजोल के डायलॉग अपने किरदार में वजन नहीं ला पायी। इससे अच्छे डायलॉग तो कुबरा सेत को दिए गए थे उनके डायलॉग बहुत बेहतरीन थे। वैसे तो कहानी कोर्ट रूम के इर्द – गिर्द ही घूमती है फिर भी कहानी में न तो सस्पेंस है और न ही कॉजोल के इमोशंस है। सबसे ज्यादा स्क्रीन टाइम काजोल को दिया गया है। सीरीज में 8 एपिसोड है जिसे देखने बैठे तो 7 से 8 घंटे निकल जायेगे। स्टोरी कही कही इतनी वीक है की आप फ़ास्ट फोरवोर्ड करके देखने लगेंगे। द ट्रायल वेब सीरीज को आप हॉटस्टार पर देख सकते है।

कमजोर कहानी  

The Trial Review कहानी कमजोर होने की वजह से आप बोर होने लगोगे और सीरीज को फॉर फोरवोर्ड करने पर मजबूर हो जायेगे। इसकी सबसे बड़ी कमी है इसके 8 एपिसोड जो 2 ,3 एपिसोड तक तो ठीक लगता है लकिन आगे आगे बहुत बोरिंग हो जाती है प्रत्येक एपिसोड 1 घंटे के आस पास का है। 8 एपिसोड की इस सीरीज में हर किरदार के पीछे की कहानी नहीं दिखाई गयी। वेब सीरीज में काजोल के पति राजीव सेनगुप्ता की हर कदम पर मदद कोण करते है ये भी नहीं नहीं दिखया गया।

The Trial Review
                                            Image Credit: Twitter

ये भी समझ से बाहर है की कुबरा सेत द्वारा निभाए गए किरदार की हिस्ट्री क्या है। कैमरा वर्क भी कुछ ख़ास नज़र नहीं आता है। वेब सीरीज में एक सीन आता है जब काजोल अपने पति राजीव से बात कर रही होती है। तब काजोल का फेस स्क्रीन के लेफ्ट साइड में दिखाया जाता है। लकिन जब राजीव बात कर रहा होता है तब काजोल का फेस राइट साइड में दिखया जाता है। पता नहीं क्या क्रिएटिव करना चाहते है।

रीमेक का भूत सवार 

आज – कल बॉलीवुड पर रीमेक बनाने का जसे भूत सवार हो गया है। मुझे पेर्सनली ये बहुत अच्छा नहीं लगा की हर दूसरी फिल्म किसी न किसी की रीमेक होती है। बॉलीवुड का खुद का कोई कंटेंट नहीं है। ऐसा नहीं की हर फिल्म रीमेक होती है लकिन ज्यादातर फिल्मे रीमेक बनने लगी है।

यह भी पढ़े: OMG 2: सेंसर बोर्ड ने OMG 2 को नहीं दिया सर्टिफिकेट, फिल्म में सेक्स एजुकेशन को लेकर जताई आपत्ति

देखे या नहीं 

अब सवाल उठता है की आप इसे देखे या नहीं। अगर आपने भी कभी अपनी ज़िंदगी में धोखा खाया है। बार बार किसी न किसे से धोखा खाया है तो आप इसे एक बार जरूर देख सकते है। सायद इसे देखने के आपको हिम्मत मिले या लड़ने की ताकत। अगर आपने ‘ क्रिमिनल जस्टिस ‘ या जॉली एलएलबी’ जैसी कोर्ट रूम ड्रामा देखा है। तो ये डेरियस आपके लिए नहीं है। इसे देखने के बाद आपको निराशा ही हाथ लगेगी। सीरीज का दूसरा भाग भी आने वाला है। जिसमे हमें कई सारे सवालों के जवाब मिलेंगे।

Conclusion

दोस्तों ये था The Trial Review अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे शेयर जरूर करे। अगर अप्पके कोई सवाल या सुझाव है, तो आप हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताये। ऐसे ही और मूवी रिव्यु जानने के लिए आप Filmymuskan के साथ जुड़े रहे। धन्यवाद दोस्तों मिलते है अगले पोस्ट के साथ।

यह भी पढ़े :

Leave a Comment